कंप्युटर क्या है, कंप्युटर के गुण – What is computer in Hindi

Loading...

Computer kya hai? जब भी आप कोई काम आप कंप्युटर से करते है तो आपके मन मे बहूत सररे सवाल जरूर आते होंगे की कंप्युटर क्या है यह कैसे काम करता है ऐसे ही अनेकों सवाल पर सायद उसमे से आपको कुछ के जवाब भी पता होते ही पर वे कुछ क्लेयर नहीं होते और अब तो डिजिटल जवाना भी आ गया है सब कुछ digital तरीके से हो रहा है।

और कंप्युटर ने तो मनुष्य की जिंदगी भी आसान कर दी है। लोग आराम से घर बैठे अपना काम भी digital तरीके से कर रहे । तो अब आप अनुमान लगा सकते है की इन सब काम तो कॉमपुटर्स आदि के मदत से ही कीये जाएंगे ना ।

इस विषय में हम इस बारे में चर्चा करेंगे कि कंप्यूटर क्या है और कंप्यूटर कैसे काम करता है? कंप्यूटर के फायदे क्या हैं ?, कंप्यूटर के नुकसान क्या हैं? कंप्यूटर के प्रकार, कंप्यूटर के भाग। मूल रूप से, पहले हम जानते हैं कि कंप्यूटर क्या है।

 

और क्या आपको पता है की आज हम सब जो कॉमपुटर्स use कर रहे है उसके पीछे कितने सारे scientists की सालों की मेहनत है? क्या। कैसे, कब हुआ कंप्युटर का अविस्कार।

 

इससे पहले इसे किसिने बनाया था या नहीं, पहले का कंप्युटर कैसा रहा होगा। मुझे यह पता है की आपको कंप्युटर का बेसिक जानकारी तो ही पर मै आपको इस आर्टिकल के माध्यम से आधी जानकारी नहीं दूंगा।

 

मै इस आर्टिकल की मदत से कंप्युटर के बारे मे पूरी जानकारी दूंगा। तो चलिए आज के इस ज्ञान को अर्जित करे.

Contents hide

कंप्यूटर क्या है (What is computer in hindi?)

कंप्युटर मुख्यतः एक प्रकार से इलेक्ट्रॉनिक यंत्र है। मुझे पता है कि आप जानते हैं कि कंप्यूटर एक इलेक्ट्रॉनिक मशीन है, लेकिन इस समय कंप्यूटर की परिभाषा यह है कि कंप्यूटर एक ऐसा उपकरण है जो हार्डवेयर या सॉफ़्टवेयर प्रोग्राम द्वारा दिए गए संदर्भ के आधार पर गणना, संचालन और प्रक्रिया करता है। कंप्यूटर शब्द लैटिन शब्द “कॉम्पुटेयर” से लिया गया है।

इसका मतलब एक प्रोग्राम योग्य डिवाइस की गणना करना है। कंप्यूटर डिवाइस प्रोग्राम के बिना कुछ भी काम या नहीं कर सकता है। कंप्यूटर शब्द को आंरिक मेमोरी के रूप में भी संदर्भित किया जाता है।

कंप्युटर का फुल फॉर्म हिन्दी मे क्या है?

यदि हम कंप्युटर के फुल फॉर्म के बारे मे बात करे तो अभी तक इसका कोई अभी तक कोई एक मुख्य फ़ुल फॉर्म नहीं है फिर भी कंप्युटर का काल्पनिक फुल फॉर्म है

  • C- Commonly
  • O- Operating
  • M- Machine
  • P- Particular
  • U- Used For
  • T- Technical
  • E- Educational
  • R- Research

तो ये रहा कंप्युटर का फुल फॉर्म जो की काल्पनिक है और कंप्युटर के working के आधार पर इस fullform को बनाया गया है।

 यदि हम कंप्युटर के फूल फॉर्म को इन मे बात करे तो वह ठीक इसके फुलफॉर्म का हिन्दी मे ट्रैन्स्लैट हो जायगा । आम ऑपरेटिंग मशीन विशेष रूप से व्यापार, शिक्षा औं अनुसंधान के लिए उपयोग की जाती है । तो ये तो रहा कंप्युटर का हिंदीयउर English मे फुलफॉर्म ।

कंप्यूटर का परिचय (Introduction to Computers in Hindi) कंप्‍यूटर क्‍या है - What is Computer

कंप्युटर की परिभाषा

कंप्यूटर एक ऐसा उपकरण है जो हार्डवेयर या सॉफ़्टवेयर प्रोग्राम द्वारा दिए गए संदर्भ के आधार पर गणना, संचालन और प्रक्रिया करता है। और सभी digital modern कॉमपुटर्स के पास उनका components भी भी है जो की इसप्रकार है।

Stores ResultsInput
Processes DataProcessing
Produces OutputOutput
Accepts DataInput

कंप्युटर का आविस्कार किसने किया? Who is the father of Computer इन हिन्दी

Modern computer का खोज करने मे तो बहूत सारे लोगों का हाथ है पर क्या आपको पता है सबसे जादा योगदान इसमे किसका है? कंप्युटर का खोज सबसे पहले Charles Babbage ने किया था।

कंप्युटर के जनक

कंप्युटर के विकास की दिशा मे प्रथम और पहली प्रयास 19 वी शताब्दी मे Charles Babbage ने किया था इसलिए उन्हे कंप्युटर का जनक मन जाता है और भारत मे निर्मिती प्रथम कंप्युटर सिद्धार्थ कंप्युटर है।  

उन्होंने computing field मे अपना बहूत जादा योगदान दिया है। और इन्होंने सबसे पहले Analytical Engine सन 1837 मे किया था।

कंप्युटर का इतिहास – जनरेशन ऑफ कंप्युटर इन हिन्दी

कंप्युटर का इतिहास बहूत ही गहरा है या नहीं इसके बारे मे कहना उचित नहीं होगा और न ही यह कह जा सकता है की कंप्युटर का development कब शरू किया गया था।

कंप्युटर का इतिहास

इसके बारे मे जादा गोर न ही करे तो ही अच्छा है। पर वोमपुटेर केइतिहास को दर्शाने के लिए इसे computer generation के रूप मे विभजित कर दिया गया है। ये मुख्यतः पाँच generations मे बटे हुए है। जो की इस प्रकार है :-

  • कंप्युटर की पहली पीढ़ी- 1940-56 “Vacuum Tubes”
  • कंप्युटर की दूसरी पीढ़ी- 1956-63 “Transistors”
  • कंप्युटर की तीसरी पीढ़ी –1964–71 “Integrated Circuits”
  • कंप्युटर की चौथी पीढ़ी – 1972-85 “Microproccessors”
  • कंप्युटर की पाँचवी पीढ़ी – 1985-अब तक”Artificial Intelligence”

Computer generation का हिन्दी मे means “कंप्युटर की पीढ़िया” इसका मतलब यह हुआ की कंप्युटर के इतिहास को अलग – अलग  पीढ़ियों मे विभजित कर दिया गया है ताकी समझने मे आसानी हो ।

 जैसे- जैसे कंप्युटर का विकास धीरे धीरे होता गया वैसे ही कंप्युटर की पीढ़ियाँ भी आई और प्रत्येक पीढ़ी मे कुछ न कुछ development जरूर है।

और सबकी अलग-अलग विशेषताए भी है । कंप्युटर का जड़तार तो सस्ते, आदि के कारण इसकी मांग बड़ी है और यह कोई जो काम 2 hours मे करता वह इसे 30 minutes मे कर सकता है।

कंप्युटर की पहली पीढ़ी- 1940-56 “Vacuum Tubes”

First Genertation के computers मे vacuum Tubes का प्रयोग किया गया है। इस पीढ़ी मे vacuum Tubes का प्रयोग circuitry बनाने मे और Magnetic drum का use मेमोरी के लिए किया जाता था।

इस पीढ़ी के computers एक बार मे केवल एक ही काम कर सकते है।

Vacuum Tube को processor की तरह इस पीढ़ी के computers मे किया जाता था जो की बहूत बड़ा होने के कारण बहूत गरम होता था।

यह केवल low level भाषा को समझने मे सक्षम थे। इसमे Programs को लिखने के लिए Binary  Languages का उसे करना पड़ता था।

इस पीढ़ी के computers का तेजी से काम करने की capacity नहीं थी। प्रथम पीढ़ी के computers के कुछ examples -: UNIVAC और ENIAC computers

कंप्युटर की दूसरी पीढ़ी- 1956-63 “Transistors”

Second Generation के computers मे vaccum tube के न प्रयोग करके बल्कि उसको replace करके transistors को उपयोग मे लाया गया।

इस जेनरैशन के कंप्युटर का speed first generation के तुलना मे तेज था पर इसमे भी heating की बहूत समस्या थी। इसमे Input के लिए punch card का उपयोग किया गया था और output के लिए Print out का उपयोग करना पड़ता था।

इसमे High Level Languages का उसे किया जाता था पर program को लिखने के लिए Assembly Languages का उसे किया जाता था। जैसे- COBOL, FORTAN Languages

कंप्युटर की तीसरी पीढ़ी –1964–71 “Integrated Circuits”

Third Generation के computers मे integrated circuits का उपयोग किया गया था। इस जनरेशन के कंप्युटर का आकार small था।

इसमे पहली बार Input के लिए keyboard का और Output के लिए Monitor का प्रयोग किया गया था। इस generation के computers का स्पीड बहूत तेज था।

इसमे First Time operating system का प्रयोग किया गया था जैसे – CUI (Character User Interface).

इनमे programs को लिखने के लिए High Level Language का उपयोग किया जाता था। पहली बार इस generation के computers को market मे launch किया गया था।

कंप्युटर की चौथी पीढ़ी – 1972-85 “Microproccessors”

Fourth Generation के computers मे Microprocessors का use किया गया था। Microprocessors Silicon का बना होता है जो की एक चीप की तरह होता है।

इस जनरेशन के कंप्युटर मे हजारों Integrated Circuits एक ही silicon चीप मे embedded होती हैं। इसमे ऑपरेटिंग सिस्टम GUI (Graphical User Interface) का use किया गया था।

इस generation के कॉमपुटर्स मे पहली बार mouse  का प्रयोग करना शरू हुआ था। इन सब कॉमपुटर्स का speed भी बहूत तेज है।

इन सब computers मे program को लिखने के लिए High Level Language को विकसित कीये गए थे जैसे – C , C++ आदि।

इस जनरेशन के computer काम समय मे बड़ा से बड़ा calculations कर सकते थे।

पहली बार 1971 मे Intel कंपनी ने Microprocessor cheap memory का use किया था। उस मेमोरी  का नाम Intel-4004 था।

कंप्युटर की पाँचवी पीढ़ी – 1985-अब तक”Artificial Intelligence”

Fifth Generation के computer मे artificial intelligence का उसे किया गया था। Artficial Intelligence का अर्थ होता है की जो मानवी बाषाओ को समझ सके।

इस जनरेशन के कॉमपुटर्स का केवल एक ही उदेश्य है की यह कॉमपुटर्स मानव के भाषाओ को आसानी से समझ सके।

आज के समय हम सब इसके कुछ appliances को use करते है। जैसे-

  • Printers
  • Robot
  • Input Voice आदि

कंप्युटर के मुख्य भाग – Parts of computer in Hindi

Computer के मुख्यतः तो चार parts होते है।

  1. Monitor
  2. CPU
  3. Mouse
  4. KeyBoard

यदि ये चार पार्ट्स कंप्युटर के न रहे तो फिर कंप्युटर से काम करने मे बहूत मुस्किल होगी इसलिए ये चार कंप्युटर के मुख्य भाग माने जाते है। तो चलिए कॉमपुटर्स के पार्ट्स केबारे मे विस्तार मे जानकारी प्राप्त करते है।

Monitor (Monitor क्या है?)

Monitor एक मुख्य रूप से computer का एक main part है। Monitor जो है जो भी कुछ हमकाम करते है वह उसको हमे screen के मदत से input कीये गए data को out करके दिखाता है।

Monitors output device होते है। इसके सहता से आप जो भी कुछ काम अपने कपू की मदत से करेंगे वह यह screen पर दिखाता है।

CPU- (CPU क्या है?)

CPU का पूर्ण रूप Central Processing Unit है। CPU को computer का mind माना जाता है। इसको हिन्दी भाषा मे केन्द्रीय संचालन तंत्र भी कहा जाता है।

यह कंप्युटर का मुख्य भाग है जो कंप्युटर मे आए input data को process करता है। जो Arithmetic और logical जैसे विभिन्न tasks को पर्फॉर्म करता है।

Mouse (Mouse क्या है?)

Mouse GUI मे सबसे जादा प्रयोग होने वाला pointer input device है। जो की कंप्युटर का एक मुख्य भाग है।

Mouse का उपयोग screen पर pointing करने, किसी items को चुनने, उनकी तरफ जाने, खोलने – बंद करने का काम करता है। 1980 के दसक के बाद इसका विकास हुआ।

Keyboard (keyboard kya hai in hindi )

कीबोर्ड एक लिखने वाला input डिवाइस है। इसका हिन्दी भाषा मे अर्थ कुंजीपटल होता है। यह कंप्युटर का एक मुख्य परत है।

कीबोर्ड के सहायते से हम कंप्युटर को निर्देश देते है और यह mainly text लिखने या typing करने के काम मे आता है।

कंप्युटर कार्य कैसे करता है? (How does computer works in hindi?)

कंप्युटर कार्य तीन प्रकार से काम करता है।

  • Input
  • Process
  • Output

Input:- जो भी काम हम कंप्युटर मे किसी इनपुट device के सहारे से करते है और तो उसको वह उसको इनपुट करता है।

Process-: जो भी काम हम कंप्युटर मे कीये रहते है (इनपुट) तो जब कंप्युटर उसको instruction को follow करके उसको प्रोसेस करता है तो उसी को प्रोसेस कहते है।

Loading...

Output-: जो भी हम कंप्युटर मे वर्क्स कीये रहते है और कंप्युटर instruction के अनुसार उसको प्रोसेस कर चुका होता है तो उसी को वह रिजल्ट के तौर पर दिखाता है तो उसी को output कहते है।

कंप्युटर की मूल यूनिटों का नाम

कभी भी अपने कंप्युटर के inner पार्ट्स को जरूर देखा होगा की उसमे बहूत सारे components लगे होते है जो की दिखने मे भी बहूत अलग दिखते है।

पर आपको क्या पता है की वे सब क्या होते है और वे कैसे काम करते है? मेरे विचार से तो आप सबको उन सब के बारे मे सायद न ही जानकारी है तो चलिए हम आपको इनके बारे मे जानकारी देते है

कंप्युटर हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर

कंप्युटर क्या है, कंप्युटर के गुण - What is computer in Hindi

Computer मे हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर बहूत मुख्य भूमिका निभाते है। इन्हे कंप्युटर के दो मुख्य रूप भी माने जाते है। हार्डवेयर या सॉफ्टवेयर के अनुपस्थिति मे कंप्युटर कुछ काम नहीं कर सकता फिर चाहे हार्डवेयर अनुपस्थित हो या तो सॉफ्टवेयर।

इसका अर्थ यह हुआ की कंप्युटर मुख्य रूप से सॉफ्टवेयर और हार्डवेयर पर निर्भर करता है। ऐसे मे तो कंप्युटर के सॉफ्टवेयर और हार्डवेयर के बारे मे जानकारी लेना आवश्यक है।

Hardware- यदि हम हार्डवेयर के बारे मे बात करे तो मुख्य रूप से इसे हम छू सकते है और देख सकते है। सरल भाषा मे बात करे तो यह कंप्युटर का एक Physical Component है।

यदि और इसे सरलता से समझे तो अभी आप जिस भी डिवाइस से यह लेख आपको स्क्रीन पर दिखाईसे रहा है वो चाहे Computer, Tablet , Laptop या तो Mobile हो सकता है तो ये सब हारद्वारे है।

सरल रूप से कह सकते है जीतने भी डिवाइसेस डाटा को कंप्युटर मे Input करके उसे processed करते है और फिर output करते है तो उन सबको हार्डवेयर कहते है ।

Software- सॉफ्टवेयर को हम छू नहीं सकते है न ही इसे हम देख सकते है। Software जो है बहूत सारे प्रोग्रामों का समूह है। जो की बहूत सारे काम करता है।

सॉफ्टवेयर की मदत से ही आप अपने कंप्युटर मे सारे काम करते है फिर चाहे जो विडिओ एडिटिंग हो या और कुछ जो की कंप्युटर की मदत से किया जाता हो ।

सरल भाषा मे कह सकते है की सॉफ्टवेयर मोबाईल phones के application या apps के तरह होते है। बस इतना स फरक ही की apps को mobile मे प्रोयोग किया जाता है और सॉफ्टवेयर को कंप्युटर या लैपटॉप मे प्रयोग किया जाता है।

सॉफ्टवेयर के कुछ उदाहरण :- Google Chrome, MS Office, Firefox , VLC Media Player आदि ऐसे ही और बहूत सारे।

कंप्युटर के प्रकार –Types of computer in Hindi

कंप्युटर के prakar

1.      Manufacturer  Computer

इसे बोलचाल की भाषा में “बड़ा लोहा” कहा जाता है। यह एक कंप्यूटर उपकरण है जिसका उपयोग बड़ी सूचना प्रसंस्करण नौकरियों के लिए किया जाता है।

इनका उपयोग संस्थानों और विश्वविद्यालयों और कई और अधिक के लिए किया जाता है

2.      सुपर कंप्यूटर (Super Computer)

एक कंप्यूटर जिसका उपयोग सामान्य उद्देश्यों की तुलना में उच्च स्तर के प्रदर्शन के साथ किया जाता है कंप्यूटर डिवाइस को सुपर कंप्यूटर के रूप में जाना जाता है।

सुपर कंप्यूटर को एक पेशेवर कंप्यूटर के रूप में जाना जाता है। इसे प्रति सेकंड फ्लोटिंग पॉइंट ऑपरेशन (FLOPS) के बजाय मिलियन इंस्ट्रक्शंस प्रति सेकंड (MIPS) में मापा जाता है। चीन में “219 से अधिक सुपर कंप्यूटर हैं”। संयुक्त राज्य में 116 सुपर कंप्यूटर हैं।

जापान में 29 से अधिक सुपर कंप्यूटर हैं। भारत में दुनिया के पाँच सैकड़ों सुपर कंप्यूटरों में से 11 सुपर कंप्यूटर हैं। इसका उपयोग कंप्यूटर विज्ञान के क्षेत्र में किया जाता है।

3.      मिनी कंप्यूटर ( Mini computer)

मिनी कंप्यूटर का उपयोग वैज्ञानिक और इंजीनियरिंग अभिकलन के लिए किया जाता है और इसका उपयोग व्यवसाय के लिए किया जाता है.

4.      माइक्रो कंप्यूटर ( Micro Computer)

एक माइक्रो कंप्यूटर एक माइक्रोप्रोसेसर कंप्यूटर है और इसकी केंद्रीय प्रसंस्करण इकाई के रूप में है .

कंप्युटर की विशेषताए ( Advantages ऑफ computer )

यदि आप कंप्युटर उपयोग करते होंगे तो आपको तो कंप्युटर की विशेषताए के बारे मे पता ही होगा पर इनके कुछ मुक्कीय विशेषताए भी है जैसे:-

  • Speed
  • Occuracy
  • Consistency
  • Data Storing capability
  • Flexibilty

कंप्यूटर का पूरा अर्थ क्या है

ज्यादातर लोगों का कहना है कि कंप्यूटर का पूरा अर्थ कॉमन ऑपरेटिंग मशीन है जो शैक्षिक और तकनीकी अनुसंधान के लिए जानबूझकर उपयोग किया जाता है। एक कंप्यूटर डिवाइस का उपयोग आमतौर पर स्वचालित रूप से तार्किक संचालन और अंकगणित करने के लिए किया जाता है

कंप्यूटर के उपयोग क्या हैं?

कंप्यूटर के कई उपयोग हैं। निम्नलिखित में से कुछ नीचे दिए

  • पहले वर्ष में, गणना के लिए कंप्यूटर का सबसे अधिक उपयोग, लेकिन इस समय में कंप्यूटर का उपयोग कई कार्यों और अनुसंधान के लिए किया जाता है
  • कंप्यूटर का उपयोग अध्ययन के लिए किया जाता है
  • इसका उपयोग बैंकों में किया जाता है
  • इसका उपयोग ऑनलाइन टिकट बुक करने के लिए किया जाता है
  • इसका उपयोग ऑनलाइन शिक्षण के लिए किया जाता है।
  • इसका उपयोग निर्माण कार्यों के लिए किया जाता है
  • इसका उपयोग प्रोजेक्ट बनाने के लिए किया जाता है
  • इसका उपयोग वेबसाइट बनाने के लिए किया जाता है।
  • इसका उपयोग अस्पताल में किया जाता है
  • इसका उपयोग सभी कंपनियों में किया जाता है। आदि

ये तो कंप्युटर के कुछ उपयोग के बारे मे महत्वपूर्ण जानकारी थी चलिए आपको हम इसके बारमे मे विस्तार से समझते है। नीचे दिए गए सभी क्षत्रों मे कंप्युटर के प्रयोग होता है।

Government:: Government द्वारा कॉमपुटर्स का उपयोग सबसे जादा कीये जाने लगा है। पहले तो votes का calculation physically होता था पर अब तो government वोटेस को digital means कंप्युटर द्वारा गरना करने मे use कर रहे है।

Government लगभग सभी कामों को कंप्युटर द्वारा करवा रही है। जैसे गरीबों का राशन कार्ड बनवाना आदि।

Editing: आज कल आप तो बहूत है अच्छी अच्छी तस्वीरों को देखते होंगे पर आपको क्या पता है की बहूत सारे ऐसे भी तस्वीरे है जो की edit करके बनाए जाते है।

पर ऐसे मे क्या आपको पता है की ये सब कैसे होता है। आजकल लोग कंप्युटर का use करे photos को भी editing करते है।

Recreation & Entertainment:: आजकल तो सब entertainment मे देवाने हो गया है। होंगे नहीं जब इतने अच्छे अच्छे scenes देखने को मिलता है।

ये सब तो तब संभव हो पाया है जब कंप्युटर आया है कंप्युटर के मदत से आप एनर्टैन्मन्ट के वीडियोज़, मूवीज यदि एडिट करके उसको अच्छा बना सकीटे है।

Education: कंप्युटर सबसे जादा रोल शिक्षा मे निभा रहा है । आने वाले कुछ समय मे शिक्षा को विद्यार्थी online लेना पसाद करेंगे और आज कल तो online classes चल भी रहे है तो काही न कही शिक्षा मे कंप्युटर का बहूत महत्वपूर्ण बहोमिक है और भविष्य मे होगा।

Defence: कंप्युटर का उपयोग तो अब हमरे सेना के लिए भी उपयोग होने लगा है और यह कुछ समय मे बहूत जादा हो भी जाएगा।

होगा भी क्या न जब सब कुछ कंप्युटर द्वारा हो रहा है तो इसे भी तो कंप्युटर द्वारा control करना चाहिए। क्योंकी यह तो अब digital era है।

Health and Medicine: कंप्युटर का उपयोग अब तेजी से हेल्थ के लिए भइओ किया जा रहा है कंप्युटर के मद्दत से लोगों का cityscan आदि होता है।

यदि कंप्युटर न होता तो एलाज करने मे बहूत मुस्किल होता। :

कंप्युटर के लाभ – Advantage of computer in Hindi

कंप्युटर के लाभ

यह डेटा को एक डिवाइस से दूसरे डिवाइस में जल्दी और आसानी से स्टोर और प्रोसेस कर सकता है आपको बहुत आसानी से इंटरनेट से जोड़ता है.

आप कंप्यूटर का उपयोग करके ऑनलाइन पैसे कमा सकते हैं। कंप्यूटर आपको कुछ भी सीखने में मदद कर सकता है जो आप चाहते हैं। और भी बहुत कुछ आदि। कंप्युटर को use करे से और भी कई फायदे है

 जैसे की online study , online work , online earning परंतु ये सब तब ही पॉसिबल है जब आपके पास और आपके कंप्युटर को इंटरनेट connection मिले ।

कंप्यूटर की मदद से बहुत सारे लोगों को फायदा होता है बहुत इंडस्ट्रीज जैसे बैंकिंग और रेलवे इंडस्ट्री पूरी तरह से कंप्यूटर के ऊपर निर्भर है ऐसे बहुत सारे इंडस्ट्रीज का काम कंप्यूटर की मदद से हो रहा है.

 मानव जीवन को कंप्यूटर ने बहुत ही आसान बना दिया है जिसकी मदद से बड़े-बड़े कैलकुलेशन और डाटा एनालिसिस कर सकते हैं कंप्यूटर बहुत ऐसे काम कर सकता है जो कि कई लोग मिलकर भी ऐसा काम नहीं कर सकते कंप्यूटर से आप बहुत प्रकार के बदल ले सकते हैं.

कंप्यूटर की मदद से लोगों का बहुत समय का बचत होता है जैसे एक बड़े से कैलकुलेशन को करने के लिए लोगों को घंटे लगते हैं ऐसे में कंप्यूटर सेकंड ओ में कैलकुलेशन कर देता है

कंप्युटर के हानि – Disadvantages of computer in Hindi

कंप्युटर के हानि

कंप्यूटर के आने से सिर्फ फायदा ही नहीं कुछ नुकसान भी हुआ है जैसे कि लोग अब कंप्यूटर पर ज्यादा गेम खेलना पसंद करते हैं वे लोग बाहर जाकर खेलना नहीं चाहते हैं और ऐसे बहुत सारे लोग ऐसे हैं जो दिन दिन भर कंप्यूटर के सामने बैठे रहते हैं और अपना समय व्यर्थ में बर्बाद करते हैं.

 इसका प्रभाव भी बच्चों पर कुछ ज्यादा नहीं नेगेटिव हुआ है अब बच्चे पढ़ाई लिखाई में ज्यादा रुचि ना रख कर वह कंप्यूटर पर ज्यादा गेम खेलना, सॉन्ग सुनना और वीडियो देखना ज्यादा पसंद करते हैं।

लोगों का कंप्यूटर पर निर्भर धीरे-धीरे बहुत ही बढ़ती जा रही है लोग निर्भरता इतना बढ़ गया है कि लोग अब एक छोटा सा कल को इतनी खुशी नहीं कर पाते लोग अब हर चीज सॉल्यूशन का हल खोजने के लिए कंप्यूटर का उपयोग करने लगे हैं अपने दिमाग का कम से कम उपयोग करने लगे हैं.

पर यदि कंप्युटर का सही मैने मे उसे किया जाए तो सायद कुछ लॉस ही नो हो या हानि ही न हो पर जब सही purpose के लिए उसे किया जाएगा तब केवल।

कंप्युटर का महत्व – Importance of computer in Hindi

imporatnce ofcomputer

कंप्युटर का महत्व हमरे जीवन मे बहूत जादा है और आने वाले समय मे मनुष्य कंप्युटर पर ही निररभर रहेंगे। इसीलिए अब बच्चों को छोटे पर से ही उन्हे कंप्युटर के बारे मे उरी जन्नकारी दी जा रही है तअक्की आने वाले समय मे उन्हे कंप्युटर के बारे मे भरपूर ज्ञान हो।

जैसे हमारे जीवन मे पानी पीना महत्वपूर्ण है वैसे ही कंप्युटर भी। क्यों की कंप्युटर के बारे मे जानकारी लेना आवस्यक है। अब तो आपको कंप्युटर का अपने जीवन मे महत्व पता लग गया होगा तो चलिए अब हम आपको बताते है की आने वाले समय कंप्युटर का भविष्य क्या होगा।

कंप्युटर का भविष्य – Future of computer in Hindi

कंप्युटर का भविष्य

दिन पे दिन कंप्युटर की मांग बरती जा रही है। अब तो हमारे जीवन मे कंप्युटर का तो बहूत ही महत्व हो गया है पर आने वाले समय मे कंप्युटर का हमरे जीवन मे और अत्यधिक ममहत्व हो जाएगा।

आने वाले समय मे प्रत्येक व्यक्ति प्रत्येक काम के लिए प्रयोग करेगा।  और scientists तो research करने मे लगे ही है की कंप्युटर को कैसे और बेहतर बनाया जाए।

आने वाले समय मे सब कंप्युटर से कहर बैठे (Work from home) करंगे कंप्युटर की सहायता से और इसी से पैसा भी earn करंगे।

इसका मतलब यह हुआ की भविष्य मे कंप्युटर का use हमारे daily life मे बहूत जादा होगा।

कंप्युटर क्या है , आपको कैसा लगा?

तो अब तक तो आबको कंप्युटर के बेसिक बारे मे पूरी जानकारी के बारे मे पता चल गया होगा और समझ मे आज्ञा होगा की कंप्युटर क्या है और इसके कितने प्रकार है?

बस आपसे मै इतना कहना चाहता हूँ की आप comment के द्वारे इस लेख के बारे मे जरूर अपने विचारों को बताए। और हा आप अपने आस-पड़ोस, रिश्तेदारों, अपने मित्रों में इसे जरूर Share करें ताकि उन्हे भी कंप्युटर के बारे मे फ्री मे जानकारी प्राप्त हो और वे भी जीवन मे कंप्युटर का महत्व समझे।

मेरा हमेशा से यही कोसिस रहता है की आपको लोगों को मै हमेसा एकदम किसी भी topics के बारे मे पूरी जानकारी दू जिससे आपसबको केवल सही ही जानकारी मिले।

धन्यवाद!

  1. कंप्यूटर क्या हैं?कंप्यूटर एक ऐसा उपकरण है जो हार्डवेयर या सॉफ़्टवेयर प्रोग्राम द्वारा दिए गए संदर्भ के आधार पर गणना, संचालन और प्रक्रिया करता है।
  2. कंप्यूटर क्या कार्य करता है? कम्प्यूटर को कार्य करने के लिए सॉफ्टवेयर (Software) और हार्डवेयर (Hardware) की आवश्यकता होती है।
  3. कंप्युटर कैसे मशीन है?कंप्युटर एक electronic मशीन है।
6d69b4b1b6e2465e1df49c5b7c7c8b58?s=96&d=mm&r=g
Ananthttps://techsnm.com
नमस्कार दोस्तों , मै Anant , TechSNM का founder हूँ। मैंने इस ब्लॉग को इसी उदेश्य से बनाया है की आप सबको Technology आदि के बारे मे इस ब्लॉग की मदत से हिन्दी मे जानकारी दु। मुझे टेक्नॉलजी के नई नई चीजों के बारे मे जानकारी लेना और दूसरों के साथ उस जानकारी को साझा करने मे बहूत ही interest है।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

3 + 7 =

Stay Connected

0FansLike
0FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

नवीनतम