MotherBoard क्या है और कैसे काम करता है?

0
motherboard

क्या आप जानते हैं कि Motherboard क्या है (what is motherboard in Hindi) आज के समय में कंप्यूटर का उपयोग हर कोई करता है और जब कभी भी कंप्यूटर खराब हो जाता है रिपेयर करने के लिए दुकान पर दे दिया जाता है

और दुकानदार आपसे कहता है कि आपका Motherboard खराब हो गया। तो आप जरूर यह सोचते होंगे कि आखिर ए Motherboard क्या है और इसका काम क्या है कंप्यूटर के कैबिनेट में एक बोर्ड लगा होता है जिसमें कंप्यूटर के सभी part कनेक्ट होते हैं और यह बोर्ड कंप्यूटर का महत्वपूर्ण भाग होता है जिसे Motherboard कहते हैं

अगर हम बात करें पहले के और आज के Motherboard की तो पहले के Motherboard में और आज के Motherboard बहुत ही अंतर है जैसे की पहले की Motherboard में एक Processor और कुछ स्लॉट्स होते थे

और यूजर को फ्लॉपी ड्राइव कंट्रोलर और मेमोरी को लगाकर काम चलाना पड़ता था  लेकिन आज के Motherboard में बहुत ही बदलाव हुए हैं जिसमें बहुत सारे फीचर्स को ऐड किया गया है जिसकी वजह से कंप्यूटर की क्षमता बहुत ज्यादा बढ़ गई है

आज इस लेख में हम Motherboard क्या होता है (what is motherboard in Hindi) और यह कैसे काम करता है(how does work motherboard in Hindi) के विषय में जानेंगे तो चलिए शुरू करते हैं

Motherboard क्या होता है – What is Motherboard in Hindi.

Motherboard कंप्यूटर का Primary board होता है इसे कंप्यूटर का नींव(foundation) भी कहते हैं इसे दूसरे नामों mainboard, base board, backplane board, system board, planar board, or main circuit board से जाना जाता है।

Motherboard कंप्यूटर का बहुत ही महत्वपूर्ण भाग होता है इसमें CPU, RAM, HDD, Monitor, BIOS, CMOS, Mouse, Keyboard ये सभी equilment dedicated पोर्ट के माध्यम से motherboard से जुड़े होते हैं

Motherboard इन सभी इक्विपमेंट को पावर सप्लाई देता है और जिससे वह आपस में Communication करते हैं हर एक Motherboard के पास एक चिपसेट होता है जो कंट्रोलर और chips का कलेक्शन होता है।

हर एक नया Motherboard एक चिपसेट का उपयोग करता है और यह Motherboard बहुत ही फास्ट और बहुत एफिशिएंट होते हैं और पुराने इक्विपमेंट नए चिपसेट के साथ काम नहीं करते।बहुत प्रकार के motherbaord उपलब्ध हैं।

जिन्हें कई प्रकार के और कंप्यूटर के साइज मैं फिट करने के लिए डिजाइन किया जाता है हर एक Motherboard सभी प्रकार के Processor और memory के साथ काम करने में सक्षम नहीं होते हैं क्योंकि वह एक विशेष प्रकार की Processor और memory के साथ काम करने के लिए डिजाइन किया जाता है।

1981 में,  IBM personal computer में पहला Motherboard का उपयोग हुआ था। उस समय आईबीएम ने इसे Motherboard के जगह planar का नाम दिया था

Motherboard के प्रकार(types of matherboard in Hindi

वैसे तो Motherboard की बहुत सारी विशेषताए है लेकिन यह विशेषताएं motherboard के निर्माता के ऊपर निर्भर करता है। इसी वजह से मदरबोर्ड का कोई प्रकार नहीं हैं लेकिन इन motherboard के design के हिसाब से इसे दो भागो मे बाटा जा सकता है।

  1. Integrated Motherboard
  2. Non-integrated Motherboard

Integrated Motherboard

जिस motherboard में कई प्रकार के इक्विपमेंट को जोड़ने के  लिए अलग-अलग पोर्ट्स बनाए जाते हैं उन्हें Integrated Motherboard कहते हैं इस मदर बोर्ड का उपयोग PCs , laptop आदि में किया जाता है इस मदर बोर्ड की मदद से आप लोग कंप्यूटर के किसी भी parts को कभी भी अपग्रेड कर सकते हैं

Non-integrated Motherboard

जिस मदरबोर्ड में कुछ मिनट को जोड़ने के लिए कोई भी पोर्ट्स नहीं होते  है। उन्हे Non-integrated Motherboard कहते है। इस type के मदरबोर्ड में सीपीयू राम आदि को fix किया जाता है मतलब सोल्डर किया जाता है

इस प्रकार के मदरबोर्ड को बाद में अपग्रेड नहीं किया जा सकता है यह मदरबोर्ड का उपयोग Tablets, smartphone आदि में किया जाता है

मदरबोर्ड के पोर्ट्स( motherboard ports in Hindi)

मदर बोर्ड एक base या components hub की तरह ही काम करता है। जिससे कंप्यूटर के सभी उपकरण जुड़े होते हैं कंप्यूटर का हर एक उपकरण एक निश्चित प्लेस पर कनेक्ट रहता है और उस प्लेस को पोर्ट(ports) कहते हैं

मदर बोर्ड में कई प्रकार के पोर्ट्स होते हैं जिसको कंप्यूटर के अलग-अलग उपकरणों से कनेक्ट किया जाता है। सभी Motherboard ports की पूरी जानकारी नीचे दी गई है।

Heat sink

इस डिवाइस को हॉट कंपोनेंट जैसे :- processor, CPU आदि को एक उचित temperature पर रखने के लिए built-in fans के साथ डिजाइन किया जाता है यह प्रोसेसर के साथ जुड़ा होता है और इसको कॉपर या एलुमिनियम alloy से बनाया जाता है।

Heat sink दो प्रकार के होते है, active और passive. जो heat sink fans के साथ होता है उसे Active heat sink कहते  है।  और जो heat sink  बिना fan के होता है उसे passive heat sink  कहते हैं।

इसका उपयोग refrigeration में भी होता है और air conditioning system, GPUs, और वीडियो कार्ड processor. और mainly इसका उपयोग सभी CPUs में होता है

Parallel port

अधिकार सभी पुराने Printers को कनेक्ट करने के लिए parallel port का उपयोग किया जाता है। यह एक से ज्यादा wires का उपयोग करते है। डाटा को भेजने और प्राप्त करने के लिए। और जबकि serial ports एक ही wire का उपयोग करता है।

Back pane connectors

यह एक ऐसा connection है जो connector और plug के मध्य jack और ports में एक लिंक को निर्दिष्ट करता है।  जैसे कि mouse, keyboard, monitor ये सभी कंप्यूटर से connected होने चाहिए उपयोग करने से पहले।

Capacitor

यह एक two terminal electrical device है जिसका उपयोग energy को electric field में स्टोर करने के लिए किया जाता है। इसको originally condenser के नाम से जाना जाता है। जब Direct current (DC) capacitor में enter करता है,

तब positive charge plate पर उत्पन्न होती है और जहां दूसरा negative charge उत्पन्न होती है। Capacitor का उपयोग electronic circuits मे किया जाता है। Direct current (DC) को ब्लॉक करके alternative current को पास करने के लिए।

Integrated circuit

यह एक छोटी सी chip होती है जिसको अलग अलग नामों से जैसे :- monolithic integrated circuit, microchip जाना जाता है। यह oscillator, amplifier और microprocessor कि तरह काम करता है।

इसमें बहुत सारे circuits, pathways logic gates और कई सारे  components शामिल है जो किसी एक विशेष function के लिए कार्य करते है।

Northbridge

यह एक integrated circuit है जो chipset के अंदर होता है। यह AGP, CPU interface, और memory के मध्य connection देता है। इसका पहला काम CPU और external device के मध्य communication कराना है।

Southbridge

यह भी एक integrated circuit है। जिसको single unit के लिए बनाया गया है। यह Input/Output controller, hard drive controller, और integrated hardware के लिए महत्वपूर्ण है।

Previous articleSEO क्यों जरूरी है?- Why SEO Important For Your Blog In Hindi?
Next articleOn-Page SEO क्या है ? पूरी जानकारी
नमस्कार दोस्तों , मै Anant , TechSNM का founder हूँ। मैंने इस ब्लॉग को इसी उदेश्य से बनाया है की आप सबको Technology आदि के बारे मे इस ब्लॉग की मदत से हिन्दी मे जानकारी दु। मुझे टेक्नॉलजी के नई नई चीजों के बारे मे जानकारी लेना और दूसरों के साथ उस जानकारी को साझा करने मे बहूत ही interest है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

two × 4 =