Homeटेक्नॉलजीकंप्युटरमाउस क्या है? और यह कितने प्रकार के...

माउस क्या है? और यह कितने प्रकार के होते है?

Loading...

Mouse Kya Hai?-धीरे–धीरे तो कंप्युटर का युग आ रहा है और हम मे से काफी सारे लोग अपने Dailylife मे कंप्युटर का उपयोग अपने कामों मे कर रहे है जी की Education के लिए, कंपनी के लिए, construction कार्य के लिए आदि मे बहूत ही जादा कंप्युटर का उपयोग हो रहा है पर ऐसे मे क्या आपको पता है की माउस क्या है? और यह कितने प्रकार के होते है?

यदि आपने कंप्यूटर का उपयोग किया होगा किसी भी आपने कार्य के लिए तो बिना माउस का तो किया नहीं होगा यादपी आपने माउस का उपयोग किया ही किया होगा तो ऐसे में आपको माउस के बारे में कुछ तो जरूर basic जानकारी होंगी ही । जैसे Monitor, Keyboard, CPU Devices कंप्यूटर का मुख्य भाग में जाता है उसी प्रकार से माउस भी कंप्यूटर का एक मुख भाग है और यह अपनी बहुत मुख्य भूमिका निभाता है। तो ऐसे में माउस के बारे में जानकारी लेना भी आवश्यक ही है।

माउस मॉनिटर के screen पर हो रहे सभी कामों को कंट्रोल करता है। माउस को कंप्यूटर का एक मुख्य भाग माना गया है । जैसे हमारे शरीर में हाथ और पैर के द्वारा ही हम सबकुछ करते है जैसे कोई भी काम होगा और इन्हीं से हम उन्हे कंट्रोल करते है ठीक उसी प्रकार से माउस भी है कंप्यूटर के हर एक भाग को कंट्रोल मे रखते है।

वैसे भी दिन पे दिन अब हम लोग तो technology से घिरे है रहे इसका मतलब कि हमारे सभी काम लगभग लगभग टेक्नोलॉजी संबंधित होते जा रहे है। और उन्हीं करने के लिए कोई ना कोई उपकरण अवश्य है। इसी कारण इस टेक्नोलॉजी ने तो हमारा सभी काम को ही बहुत ही सरल बनाते चली जा रहे है।  और इससे समय का भी बहुत बचत हो रहा है।

आज के इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको माउस के बारे में पूरी जानकारी देंगे क्योंकि जितना जिस चीज को उपयोग करना जरूरी है उससे कहीं अधिक उसके बारे में जानकारी लेना जरूरी है। तो फिर देर किस बात कि चलिए माउस के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त करें।

चलिए शरू करते है-

Contents hide
1. Mouse क्या है – What is Mouse in Hindi?

Mouse  क्या है – What is Mouse in Hindi?

माउस एक छोटा सा और कंप्युटर का मुख्य डिवाइस है जो मानिटर के स्क्रीन पर हो रहे कामों को Control करता है। माउस handheld input device है। माउस के द्वारा कोई भी यूजर कंप्युटर के स्क्रीन पर काही पर भी पहुच सकता है और किसी भी items को select, open, close आदि कर सकता है ।

माउस users को computer screen मे निर्देश देता है । माउस खुद पे खुद नहीं कंप्युटर स्क्रीन मे निर्देश देता है उसके लिए यूजर खुद से उसे जिस ओर करते है उस तरफ वह कंप्युटर स्क्रीन मे जाता है।

माउस का उपयोग कंप्युटर मे किसी भी program या software को open या close करने के लिया किया जाता है सामान्य रूप से कहे तो माउस के cursor के माध्यम से हम कुछ भी open, close छोटा और बड़ा कर सकते ।

वैसे तो अब माउस के कई मोडेल हो गए है पर एक सामान्य mouse मे दो buttons और एक scroll button है। माउस का interface भी अलग अलग के डिजाइन के है।

Mouse को किस नाम से पुकारा जाता है?

Mouse को तो सामान्य रूप से तों माउस के नाम से जाना जाता है पर इसे इसके काम के आधार पर pointing device कहा जाता है । वह इसलिए क्योंकि माउस का सबसे मुख्य काम कंप्युटर स्क्रीन मे pointing करना होता है। तो इसीलिए इसे pointing device के नाम से पुकारा जाता है।

Mouse का दूसरा नाम क्या है?

तो जैसा की हमने ऊपर बताया है की monitor को pointing device के नाम से पुकारा जाता है। तो बस यही same माउस का दूसरा नाम भी है। माउस का दूसरा नेम “pointer” है।

Mouse की परिभाषा – What is the Definition of Mouse?

वह डिवाइस जो मानिटर मे निर्देश देता है उसे माउस कहते है। माउस एक इनपुट डिवाइस है। यह एक ईपुत डिवाइस होने के साथ साथ pointing डिवाइस भी है। जब माउस से काम किया जाता है तो जो मानिटर मे pointer होता है वह mouse का pointer होता है।

माउस दिखने मे एक चूहे की तरह लगता है। सबसे जादा माउस के उपयोग विडिओ एडिटिंग मे काम आता है । यदि माउस ने होता तो सायद बहूत कठिनाए होती विडिओ editing मे।

Mouse का फूल फॉर्म क्या है? – Full Form of Mouse

Technology devices के फूल फॉर्म तो कई होते है क्योंकी इन्हे उनके काम के आधार पर बनाया जाता है। ऐसे ही माउस के भी फुलफॉर्म इसके work के आधार पर बनाया गया है । जो इस प्रकार है:- Manually Operated Utility For Selecting Equipment.

  • M- Manually
  • O- Operated
  • U- Utility
  • S- Selecting
  • E- Equipment

यदि हम माउस के फुलफॉर्म को हिन्दी मे google translate की मदत से convert करे तो यह कुछ इस प्रकार होगा:-“उपकरण के चयन के लिए मैन्युअल रूप से संचालित उपयोगिता

माउस का इतिहास – History of mouse in hindi

हम यदि माउस के इतिहास के बारे मे बात करे तो इसका इतिहास बहूत लंबा हो जाएगा और सायद आपको उसे पड़ते व्यक्त बोरिंग भी महसूस हो सकती है इस लिए मै आपको माउस का इतिहास को विस्तार मे ना बताते हुए इसे मै short मे बताने का प्रयास करूंगा।

  • सबसे पहला माउस का खोज 1964 ई० मे किया गया था जिसका अविस्कार Douglas Engelbart ने किया था । इन्होंने सबसे पहले माउस लकड़ी के बॉक्स के रूप मे बनाया था जिसमे दो धातु के पहिये लगे हुए थे।
  • लगभग 8 साल के बाद, यानि 1972 मे,  Bill English ने एक नया माउस बनाए जिसका नाम दिया गया Ball Mouse . यह माउस भी पहले वाले माउस से कुछ मिलता-जुलता था पर इसमे से पहले वाले के तरह दो पहिये नहीं लगे हुए थे यह किसी भी direction मे moveable था।
  • Year 2000 तक , Apple कंपनी ने लॉन्च किया अपना प्रो माउस जिसमे से push button को रेपलकेड कर दिया गया था और इसे एक पारदर्शी पन्नी से लप्रता गया था।

ऐसे ही हर companies अपनी अपनी new new mouse लॉन्च करती छलीगयी।

माउस को तकनीकी भाषा में क्या कहते हैं?- What is a mouse called technical language?

माउस को तकनीकी भाषा में pointing डिवाइस कहते है।

माउस कौन-सा डिवाइस है?

माउस input डिवाइस भी है और साथ ही साथ यह pointing डिवाइस भी है क्यों की यह सबसे जादा पोइंटिंग का ही तो काम करता है ।

माउस का खोज किसने किया था?- Who discovered mouse in Hindi?

सबसे पहले माउस का खोज Douglas Engelbart द्वारा सन 1964 मे किया था। इन्होंने ने उस समय उसे लकड़ी के बॉक्स के मदत से दो पहिये के साथ बनाया थे और वह उस समय बहूत ही जादा फेमस भी हुआ था। लोग उसे use करने मे भी बहूत दिलचस्प थे।

माउस कितने प्रकार के होते है? – How many types of mouse in Hindi?

वैसे तो कंप्युटर माउस के तो कई प्रकार होते है जिनका उसे अलग अलग कामों के लिए किया जाता है। और आज यदि हम मार्केट मे बात करे तो बहूत से प्रकार के माउस उपलब्ध है। पर हम यहा पर आपको माउस के main types के बारे मे ही केवल जानकारी देंगे जो जाना जरूरी है और महत्वपूर्ण भी है तो चलिए माउस के महत्व पूर्ण प्रकार के बारे मे जानते है। 

1.   Corded Mice

  • Cordless Mice

3.    Optical and laser mice

4.    Mechanical mice

5.    Gaming mice

Corded mice

जो माउस wired होते है और वे computer से cable द्वारा connect होते है उन्हे corded mouse कहते है। इस माउस मे external battery की आवश्यकता नहीं होती है। ये mouse कंप्युटर मे cable द्वारा कनेक्ट कीये जाते हैं।

Advantage of Corded mice

  • कभी भी यह टेंशन लेने के जरूरत नहीं होती की इसकी बैटरी कब खत्म हो जाए।
  • कभी भी यह टेंशन लेने के जरूरत नहीं होती की इसका ब्लूटूथ signal कब चल जाए।

Disadvantage of Corded mice

  • Travelling  मे इस mouse से बहूत दिकत होती है।

Cordless mice

जो माउस wireless होते है और कंप्युटर से ब्लूटूथ द्वारा connect होते है उन्हे cordless माउस कहते है। इस माउस मे external बैटरी की जरूरत पड़ती है। इसे wireless mice भी कहा जाता है।

Advantage of Cordless mice

  • Travelling मे बहूत लाभ होता है इस माउस को उसे करने से।

Disadvantage of Cordless mice

  • कभी भी इसकी बैटरी कब खत्म हो जाने का डर।
  • कभी भी इसका ब्लूटूथ signal चला जाने का डर।

Optical Mice

Optical mouse पूरी तरह से एक या एक से अधिक LEDs पर निर्भर करता है।यह माउस optical electronic s का उपयोग करती है।

Optical mouse को laser mouse भी कहा जाता है।

यह माउस जल्द खराब नहीं होता है। इस माउस का मूवमेंट इसके lights के ऊपर निर्भर करती है। Modern optical mouse paper पर भी work कर रहे है। परन्तु पहले के properly नहीं काम करते थे।

यह सभी से अलग भी होता है।  पहले optical mouse के लिए mousepad कि आवश्यकता पड़ती थी पर मॉडर्न optical mouse में mouse pad ki आवश्यकता नहीं पड़ता है।

Mechanical Mouse

जिस माउस में movement को track करने केवलिए बहुत सारे rollers लगे होते है उसे mechanical mouse कहते है।

Mechanical mouse को ball माउस भी कहा जाता है। इस माउस को 2 October 1968 को विकसित किया गया था। ये optical mouse के तरह जादा पॉपुलर नहीं होते है। यदि इसके performance के बात करे तो बहुत हाई होती है पर इसे हमेशा clean करने को मांगता है।

Gaming Mouse

Gaming mouse खासकर केवल game खेलने के लिए बनाया गया है । इसका उपयोग वो लोग करते है जो गमर्स है और गेम खेलते है । यह उन लोगो के लिए बहुत ही लाभकारी होता है।

इस माउस को कंप्यूटर games ke liye बनाया गया है। gaming मौसेयाऊर सभी mice से अलग होता है इसमे उससे अलग buttons भी होते है हलाकि इसका देखने मे यह basic माउस की तरह ही लगता है।

Mouse कैसे काम करता है?

माउस के बारे मे पूरी जानकारी पाने के बाद आपके मन मे एक सवाल जरूर आया होगा तो वास्तव मे माउस काम कैसे करता है?

Optical Mouse कैसे काम करता है?

Optical mouse के पीछे एक LED छोटी सी light लागि होती है। जो की जब बरता है तो ठीक आपके डेस्क के सामने होता है। जिस पर आप माउस रखे होते है। तो उस LED light मे lens लगा होता है। जब डेस्क से लाइट टकराकर वापस जाता है तो जो प्रॉसेस होता है तो उससी से माउस वर्क करता है।

एक Basic Mouse का Design

Computers के लिए माउस के use करना अनिवर्य है यह तो आप सब ने समझ ही लिया है अब ऐसे मे एक basic माउस का design क्या होगा इसमे कितने buttons होंगे ये भी तो जानना जरूरी है।

आप जब भी कंप्युटर चलते होंगे तो आप अपने कंप्युटर के चाहे left या right मे माउस को जरूर रखते होंगे। इसके लिए थोड़ा स्पेस की भी जरूरत होती है cursor को scroll करने के लिए।

सामान्य रूप से मै आपको बात दो की एक माउस मे एक wheel button , और एक left और एक right बटन और कुछ बेसिक buttons होता है।

नीचे हमने माउस के बेसिक parts के बारे मे जानकारी दी है।

Wheel or Scroll Button: यह बटन माउस के एकदम बीच मे लगा होता है यह scrolling का काम करता है। यह बटन गोलाकार होता है जिससे scrolling मे आसानी होती है। चलिए इसे समझने के लिए एक साधरण उदाहरण लेते है- मान लीजिए आप अपने कंप्युटर या लैपटॉप कोई लंबा स Topic का पेज ओपन कीये है तो क्या वह पूरा पेज आपके स्क्रीन पर एक ही बार मे दिखाता है नहीं न तो हम उसे scroll करते है फिर हुमए और दिखता है । ऐसे मे माउस के बीच वाले बटन – wheel button का use किया जाता है।

Left Button: यह बटन माउस के wheel button के left होने के कारण इसे mouse का left button कहा जाता है। यह बटन जब आप अपना हाथ माउस पर रखते है तो यह आपके index finger के नीचे रहता है। यह button mouse का main button भी कहा जाता है। यदि आपको बताना रहे किसी को की इस software को open करो । तो सिर्फ आप उससे कहेंगे क्लिक करो न की left click करो। इसका मतलब यह हुआ की यदि आपको कहना है left click then आपको केवल क्लिक बोलना है।

Right Button: यह बटन माउस के wheel button के Right  होने के कारण इसे mouse का Right  button कहा जाता है। यह बटन जब आप अपना हाथ माउस पर रखते है तो यह आपके Ring finger के नीचे रहता है।

Mouse Body: जब माउस पहली बार खोज मे आया था तब माउस का body लकड़ी का बना हुआ था पर जैसे जैसे टेक्नॉलजी आगे बड़ी माउस का बॉडी भी चेंज हुआ। माउस का बॉडी एक दम चूहे की तरह लगता है। इसी माउस क बॉडी पर आपके हाथ का पूरा वजन रहता है।

माउस को हिन्दी मे क्या कहते है?

हिन्दी मे जानकारी माउस के बारे मे ले रहे हैं तो यह तो आवश्यक है जानना की माउस को हिन्दी मे क्या कहते है?- यदि आप Google Translate के मदत से इसे हिन्दी मे translate करेंगे तो वह उसका means चूहा बताएगा।

Computer mouse मे चूहे की आख की तरह दो बटन होते है और उसकी पूछ की तरह वायर भी होता है तो ऐसे मे माउस means चूहा कहना कोई गलत नहीं होगा।

माउस के touchpad को क्या कहते है?

माउस के touchpad को आप सामान्य रूप से track pad bhi कह सकते है।

Touchpad क्या होता है?

Touchpad आम तौर पर ये लैपटॉप, और कुछ कुछ keyboards के साथ भी मिलता है। यह हमरे फिंगगर द्वारा काम करता है जैसे माउस को इधर – उधर करने पर cursor उसी प्रकार काम करता है। same ऐसे ही यह भी होता है।

अब तो अलग से केवल touchpad भी मिलने लगा है। जो की wireless होता है। जानकारी के लिए मै बटाऊ जब भी आप imac लेंगे तो उसके sath आपको एक wireless touchpad भी मिलेगा।

Mouse के बदले कुछ कामों मे touchpad better होता है।

माउस का प्रयोग

मानिटर मे माउस का तो बहूत जादा use होता है पर हमने कुछ मैं use नीचे दिया हुआ है।

  • माउस मॉनिटर के screen पर हो रहे सभी कामों को कंट्रोल करता है।
  • माउस के द्वारा कोई भी यूजर कंप्युटर के स्क्रीन पर काही पर भी पहुच सकता है और किसी भी items को select, open, close आदि कर सकता है ।
  • माउस users को computer screen मे निर्देश देता है ।

माउस का भविष्य

यदि अब हम माउस के भविष्य के बारे मे बात करे की माउस का आने वाले समय मे क्या मांग होगी? पहले तो लोग Ball mouse का उपयोग करते थे पर जैसे-जैसे टेक्नॉलजी का विकास हुआ वैसे ही mouse का भी विकास हुआ और तरह तरह के माउस आए।

आने वाले समय मे लोग अपना समय बचने के लिए और जादा टेक्नॉलजी का उपयोग करेंगे और इसी समय बचाने के वजह से टेक्नॉलजी भी बहूत ही जादा विकास करेगी। पहले तोलोग माउस को कंप्युटर से कनेक्ट करने के लिए datacable का उपयोग करते थे पर अब तो wireless माउस भी आगी है । इससे तो यही लगता है की आने वाले समय मे टेक्नॉलजी का बहूत बाद योगदान होगा।

आने वाले समय मे यह भी हो सकता है की ओमपुटेर के लिए माउस का उपयोग ही न करना पड़े । यह मै इसलिए कह रहा हूँ क्यों की artificial intelligence भी बहूत तेजी से बाद रहा है। पर ये कुछ भी नहीं कहा जा सकता है की माउस रहेगा या नहीं कोई नहीं जनता भविष्य मे क्या होगा। हा पर अनुमान लगाया जा सकता है।

तो ऐसे मे तो माउस का भविष्य क्या होगा यह तो टेक्नॉलजी के ऊपर निर्भर करती है क्यों की यदि टेक्नॉलजी है तो कुछ भी संभव है। यह मै इसलिए कह रहा हूँ क्यों की टेक्नॉलजी के कारण impossible काम भी possible मे बदले जा चुके है। और भविष्य मे भी इसकी मदत से impossible को possible बनाया जा सकता है।

देखते है भविष्य मे क्या – क्या नए आते है और क्या- क्या सीखने का मौका मिलता है।

आपने क्या सीखा?

इस पोस्ट के माध्यम से अब आपको माउस क्या है इसके कितने प्रकार होते है? इसके बारे मे आपको पूरी जानकारी जरूर मिल गया होगी। मुझे पूर्ण आशा है की मैंने माउस क्या है के बारे मे पूरी जानकारी सही सही इस पोस्ट की माध्यम से दी है। एक बार मै फिर कहता हूँ की इसके बारे मे आप सबको अवश्य पूरी जानकारी मई गई होगी।

मेरा आपसे एक निवेदन है इस पोस्ट को अपने पड़ोस, रिश्तेदार, भाई-बहन, अपने relationship मे सभी तक इस पोस्ट को जरूर पहुचाए जिससे हमारे बीच जागरूकता होगी और इससे सभी को टेक्नॉलजी के बारे मे सम्पूर्ण जानकारी हिन्दी मे सरलता और आसानी से मिलेगी जिससे हमारे देश मे कोई भी ऐसा नहीं रहे जिसे टेक्नॉलजी के बारे मे जानकारी न हो।

वो कहते है ना “यदि कुछ अपने भाषा मे सीखने को मिले तो वह सीखने मे भी आनंद आता है” तो बस वही हम भी कहते हैकी आप सबको technology और अन्य चीजों के बारे मे आपको जानकारी केवल और केवल आपके अपने भाषा हिन्दी मे मिले।

आपसे मेरा गुंजारिस है की आपको यह information कैसा लगा, आपके लिए यह कितना लाभदायक है और इसमे क्या त्रुटि है उसे आप हमे comment करके जरूर बताए ताकि मै अगले पोस्ट मे उसे सुधार कर के आपके सामने अच्छे से प्रस्तुत करू जिससे आपको समझने मे और भी आसनी होगी।

धन्यवाद !

Mouse kya hai ? धीरे–धीरे तो कंप्युटर का युग आ रहा है और हम मे से काफी सारे लोग अपने Dailylife मे कंप्युटर का उपयोग अपने कामों मे कर रहे है जी की Education के लिए, कंपनी के लिए, construction कार्य के लिए आदि मे बहूत ही जादा कंप्युटर का उपयोग हो रहा है पर ऐसे मे क्या आपको पता है की माउस क्या है ? और यह कितने प्रकार के होते है?

यदि आपने कंप्यूटर का उपयोग किया होगा किसी भी आपने कार्य के लिए तो बिना माउस का तो किया नहीं होगा यादपी आपने माउस का उपयोग किया ही किया होगा तो ऐसे में आपको माउस के बारे में कुछ तो जरूर basic जानकारी होंगी ही । जैसे Monitor, Keyboard, CPU Devices कंप्यूटर का मुख्य भाग में जाता है उसी प्रकार से माउस भी कंप्यूटर का एक मुख भाग है और यह अपनी बहुत मुख्य भूमिका निभाता है। तो ऐसे में माउस के बारे में जानकारी लेना भी आवश्यक ही है।

माउस मॉनिटर के screen पर हो रहे सभी कामों को कंट्रोल करता है। माउस को कंप्यूटर का एक मुख्य भाग माना गया है । जैसे हमारे शरीर में हाथ और पैर के द्वारा ही हम सबकुछ करते है जैसे कोई भी काम होगा और इन्हीं से हम उन्हे कंट्रोल करते है ठीक उसी प्रकार से माउस भी है कंप्यूटर के हर एक भाग को कंट्रोल मे रखते है।

Loading...

वैसे भी दिन पे दिन अब हम लोग तो technology से घिरे है रहे इसका मतलब कि हमारे सभी काम लगभग लगभग टेक्नोलॉजी संबंधित होते जा रहे है। और उन्हीं करने के लिए कोई ना कोई उपकरण अवश्य है। इसी कारण इस टेक्नोलॉजी ने तो हमारा सभी काम को ही बहुत ही सरल बनाते चली जा रहे है।  और इससे समय का भी बहुत बचत हो रहा है।

आज के इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको माउस के बारे में पूरी जानकारी देंगे क्योंकि जितना जिस चीज को उपयोग करना जरूरी है उससे कहीं अधिक उसके बारे में जानकारी लेना जरूरी है। तो फिर देर किस बात कि चलिए माउस के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त करें।

 

चलिए शरू करते है-

Mouse  क्या है – What is Mouse in Hindi?

माउस एक छोटा सा और कंप्युटर का मुख्य डिवाइस है जो मानिटर के स्क्रीन पर हो रहे कामों को Control करता है। माउस handheld input device है। माउस के द्वारा कोई भी यूजर कंप्युटर के स्क्रीन पर काही पर भी पहुच सकता है और किसी भी items को select, open, close आदि कर सकता है ।

माउस users को computer screen मे निर्देश देता है । माउस खुद पे खुद नहीं कंप्युटर स्क्रीन मे निर्देश देता है उसके लिए यूजर खुद से उसे जिस ओर करते है उस तरफ वह कंप्युटर स्क्रीन मे जाता है।

माउस का उपयोग कंप्युटर मे किसी भी program या software को open या close करने के लिया किया जाता है सामान्य रूप से कहे तो माउस के cursor के माध्यम से हम कुछ भी open, close छोटा और बड़ा कर सकते ।

वैसे तो अब माउस के कई मोडेल हो गए है पर एक सामान्य mouse मे दो buttons और एक scroll button है। माउस का interface भी अलग अलग के डिजाइन के है।

Mouse को किस नाम से पुकारा जाता है?

Mouse को तो सामान्य रूप से तों माउस के नाम से जाना जाता है पर इसे इसके काम के आधार पर pointing device कहा जाता है । वह इसलिए क्योंकि माउस का सबसे मुख्य काम कंप्युटर स्क्रीन मे pointing करना होता है। तो इसीलिए इसे pointing device के नाम से पुकारा जाता है।

Mouse का दूसरा नाम क्या है?

तो जैसा की हमने ऊपर बताया है की monitor को pointing device के नाम से पुकारा जाता है। तो बस यही same माउस का दूसरा नाम भी है। माउस का दूसरा नेम “pointer” है।

Mouse की परिभाषा – What is the Definition of Mouse?

वह डिवाइस जो मानिटर मे निर्देश देता है उसे माउस कहते है। माउस एक इनपुट डिवाइस है। यह एक ईपुत डिवाइस होने के साथ साथ pointing डिवाइस भी है। जब माउस से काम किया जाता है तो जो मानिटर मे pointer होता है वह mouse का pointer होता है।

माउस दिखने मे एक चूहे की तरह लगता है। सबसे जादा माउस के उपयोग विडिओ एडिटिंग मे काम आता है । यदि माउस ने होता तो सायद बहूत कठिनाए होती विडिओ editing मे।

Mouse का फूल फॉर्म क्या है? – Full Form of Mouse

Technology devices के फूल फॉर्म तो कई होते है क्योंकी इन्हे उनके काम के आधार पर बनाया जाता है। ऐसे ही माउस के भी फुलफॉर्म इसके work के आधार पर बनाया गया है । जो इस प्रकार है:- Manually Operated Utility For Selecting Equipment.

  • M- Manually
  • O- Operated
  • U- Utility
  • S- Selecting
  • E- Equipment

यदि हम माउस के फुलफॉर्म को हिन्दी मे google translate की मदत से convert करे तो यह कुछ इस प्रकार होगा:-“उपकरण के चयन के लिए मैन्युअल रूप से संचालित उपयोगिता

माउस का इतिहास – History of mouse in hindi

हम यदि माउस के इतिहास के बारे मे बात करे तो इसका इतिहास बहूत लंबा हो जाएगा और सायद आपको उसे पड़ते व्यक्त बोरिंग भी महसूस हो सकती है इस लिए मै आपको माउस का इतिहास को विस्तार मे ना बताते हुए इसे मै short मे बताने का प्रयास करूंगा।

  • सबसे पहला माउस का खोज 1964 ई० मे किया गया था जिसका अविस्कार Douglas Engelbart ने किया था । इन्होंने सबसे पहले माउस लकड़ी के बॉक्स के रूप मे बनाया था जिसमे दो धातु के पहिये लगे हुए थे।
  • लगभग 8 साल के बाद, यानि 1972 मे, Bill English ने एक नया माउस बनाए जिसका नाम दिया गया Ball Mouse . यह माउस भी पहले वाले माउस से कुछ मिलता-जुलता था पर इसमे से पहले वाले के तरह दो पहिये नहीं लगे हुए थे यह किसी भी direction मे moveable था।
  • Year 2000 तक , Apple कंपनी ने लॉन्च किया अपना प्रो माउस जिसमे से push button को रेपलकेड कर दिया गया था और इसे एक पारदर्शी पन्नी से लप्रता गया था।

ऐसे ही हर companies अपनी अपनी new new mouse लॉन्च करती छलीगयी।

माउस को तकनीकी भाषा में क्या कहते हैं?- What is a mouse called technical language?

माउस को तकनीकी भाषा में pointing डिवाइस कहते है।

माउस कौन-सा डिवाइस है?

माउस input डिवाइस भी है और साथ ही साथ यह pointing डिवाइस भी है क्यों की यह सबसे जादा पोइंटिंग का ही तो काम करता है ।

माउस का खोज किसने किया था?- Who discovered mouse in Hindi?

सबसे पहले माउस का खोज Douglas Engelbart द्वारा सन 1964 मे किया था। इन्होंने ने उस समय उसे लकड़ी के बॉक्स के मदत से दो पहिये के साथ बनाया थे और वह उस समय बहूत ही जादा फेमस भी हुआ था। लोग उसे use करने मे भी बहूत दिलचस्प थे।

माउस कितने प्रकार के होते है? – How many types of mouse in Hindi?

वैसे तो कंप्युटर माउस के तो कई प्रकार होते है जिनका उसे अलग अलग कामों के लिए किया जाता है। और आज यदि हम मार्केट मे बात करे तो बहूत से प्रकार के माउस उपलब्ध है। पर हम यहा पर आपको माउस के main types के बारे मे ही केवल जानकारी देंगे जो जाना जरूरी है और महत्वपूर्ण भी है तो चलिए माउस के महत्व पूर्ण प्रकार के बारे मे जानते है। 

  1. 1.   Corded Mice
  1. Cordless Mice

  1. 3.    Optical and laser mice
  2. 4.    Mechanical mice
  3. 5.    Gaming mice
  4. Corded mice

जो माउस wired होते है और वे computer से cable द्वारा connect होते है उन्हे corded mouse कहते है। इस माउस मे external battery की आवश्यकता नहीं होती है। ये mouse कंप्युटर मे cable द्वारा कनेक्ट कीये जाते हैं।

Advantage of Corded mice

  • कभी भी यह टेंशन लेने के जरूरत नहीं होती की इसकी बैटरी कब खत्म हो जाए।
  • कभी भी यह टेंशन लेने के जरूरत नहीं होती की इसका ब्लूटूथ signal कब चल जाए।

Disadvantage of Corded mice

  • Travelling मे इस mouse से बहूत दिकत होती है।

Cordless mice

जो माउस wireless होते है और कंप्युटर से ब्लूटूथ द्वारा connect होते है उन्हे cordless माउस कहते है। इस माउस मे external बैटरी की जरूरत पड़ती है। इसे wireless mice भी कहा जाता है।

Advantage of Cordless mice

  • Travelling मे बहूत लाभ होता है इस माउस को उसे करने से।

Disadvantage of Cordless mice

  • कभी भी इसकी बैटरी कब खत्म हो जाने का डर।
  • कभी भी इसका ब्लूटूथ signal चला जाने का डर।

Optical Mice

Optical mouse पूरी तरह से एक या एक से अधिक LEDs पर निर्भर करता है।यह माउस optical electronic s का उपयोग करती है।

Optical mouse को laser mouse भी कहा जाता है।

यह माउस जल्द खराब नहीं होता है। इस माउस का मूवमेंट इसके lights के ऊपर निर्भर करती है। Modern optical mouse paper पर भी work कर रहे है। परन्तु पहले के properly नहीं काम करते थे।

यह सभी से अलग भी होता है।  पहले optical mouse के लिए mousepad कि आवश्यकता पड़ती थी पर मॉडर्न optical mouse में mouse pad ki आवश्यकता नहीं पड़ता है।

Mechanical Mouse

जिस माउस में movement को track करने केवलिए बहुत सारे rollers लगे होते है उसे mechanical mouse कहते है।

Mechanical mouse को ball माउस भी कहा जाता है। इस माउस को 2 October 1968 को विकसित किया गया था। ये optical mouse के तरह जादा पॉपुलर नहीं होते है। यदि इसके performance के बात करे तो बहुत हाई होती है पर इसे हमेशा clean करने को मांगता है।

Gaming Mouse

Gaming mouse खासकर केवल game खेलने के लिए बनाया गया है । इसका उपयोग वो लोग करते है जो गमर्स है और गेम खेलते है । यह उन लोगो के लिए बहुत ही लाभकारी होता है।

इस माउस को कंप्यूटर games ke liye बनाया गया है। gaming मौसेयाऊर सभी mice से अलग होता है इसमे उससे अलग buttons भी होते है हलाकि इसका देखने मे यह basic माउस की तरह ही लगता है।

Mouse कैसे काम करता है?

माउस के बारे मे पूरी जानकारी पाने के बाद आपके मन मे एक सवाल जरूर आया होगा तो वास्तव मे माउस काम कैसे करता है?

Optical Mouse कैसे काम करता है?

Optical mouse के पीछे एक LED छोटी सी light लागि होती है। जो की जब बरता है तो ठीक आपके डेस्क के सामने होता है। जिस पर आप माउस रखे होते है। तो उस LED light मे lens लगा होता है। जब डेस्क से लाइट टकराकर वापस जाता है तो जो प्रॉसेस होता है तो उससी से माउस वर्क करता है।

एक Basic Mouse का Design

Computers के लिए माउस के use करना अनिवर्य है यह तो आप सब ने समझ ही लिया है अब ऐसे मे एक basic माउस का design क्या होगा इसमे कितने buttons होंगे ये भी तो जानना जरूरी है।

आप जब भी कंप्युटर चलते होंगे तो आप अपने कंप्युटर के चाहे left या right मे माउस को जरूर रखते होंगे। इसके लिए थोड़ा स्पेस की भी जरूरत होती है cursor को scroll करने के लिए।

सामान्य रूप से मै आपको बात दो की एक माउस मे एक wheel button , और एक left और एक right बटन और कुछ बेसिक buttons होता है।

नीचे हमने माउस के बेसिक parts के बारे मे जानकारी दी है।

Wheel or Scroll Button: यह बटन माउस के एकदम बीच मे लगा होता है यह scrolling का काम करता है। यह बटन गोलाकार होता है जिससे scrolling मे आसानी होती है। चलिए इसे समझने के लिए एक साधरण उदाहरण लेते है- मान लीजिए आप अपने कंप्युटर या लैपटॉप कोई लंबा स Topic का पेज ओपन कीये है तो क्या वह पूरा पेज आपके स्क्रीन पर एक ही बार मे दिखाता है नहीं न तो हम उसे scroll करते है फिर हुमए और दिखता है । ऐसे मे माउस के बीच वाले बटन – wheel button का use किया जाता है।

Left Button: यह बटन माउस के wheel button के left होने के कारण इसे mouse का left button कहा जाता है। यह बटन जब आप अपना हाथ माउस पर रखते है तो यह आपके index finger के नीचे रहता है। यह button mouse का main button भी कहा जाता है। यदि आपको बताना रहे किसी को की इस software को open करो । तो सिर्फ आप उससे कहेंगे क्लिक करो न की left click करो। इसका मतलब यह हुआ की यदि आपको कहना है left click then आपको केवल क्लिक बोलना है।

Right Button: यह बटन माउस के wheel button के Right  होने के कारण इसे mouse का Right  button कहा जाता है। यह बटन जब आप अपना हाथ माउस पर रखते है तो यह आपके Ring finger के नीचे रहता है।

Mouse Body: जब माउस पहली बार खोज मे आया था तब माउस का body लकड़ी का बना हुआ था पर जैसे जैसे टेक्नॉलजी आगे बड़ी माउस का बॉडी भी चेंज हुआ। माउस का बॉडी एक दम चूहे की तरह लगता है। इसी माउस क बॉडी पर आपके हाथ का पूरा वजन रहता है।

 

माउस को हिन्दी मे क्या कहते है?

हिन्दी मे जानकारी माउस के बारे मे ले रहे हैं तो यह तो आवश्यक है जानना की माउस को हिन्दी मे क्या कहते है?- यदि आप Google Translate के मदत से इसे हिन्दी मे translate करेंगे तो वह उसका means चूहा बताएगा।

Computer mouse मे चूहे की आख की तरह दो बटन होते है और उसकी पूछ की तरह वायर भी होता है तो ऐसे मे माउस means चूहा कहना कोई गलत नहीं होगा।

 

माउस के touchpad को क्या कहते है?

माउस के touchpad को आप सामान्य रूप से track pad bhi कह सकते है।

Touchpad क्या होता है?

Touchpad आम तौर पर ये लैपटॉप, और कुछ कुछ keyboards के साथ भी मिलता है। यह हमरे फिंगगर द्वारा काम करता है जैसे माउस को इधर – उधर करने पर cursor उसी प्रकार काम करता है। same ऐसे ही यह भी होता है।

अब तो अलग से केवल touchpad भी मिलने लगा है। जो की wireless होता है। जानकारी के लिए मै बटाऊ जब भी आप imac लेंगे तो उसके sath आपको एक wireless touchpad भी मिलेगा।

Mouse के बदले कुछ कामों मे touchpad better होता है।

माउस का प्रयोग

मानिटर मे माउस का तो बहूत जादा use होता है पर हमने कुछ मैं use नीचे दिया हुआ है।

  • माउस मॉनिटर के screen पर हो रहे सभी कामों को कंट्रोल करता है।
  • माउस के द्वारा कोई भी यूजर कंप्युटर के स्क्रीन पर काही पर भी पहुच सकता है और किसी भी items को select, open, close आदि कर सकता है ।
  • माउस users को computer screen मे निर्देश देता है ।

माउस का भविष्य

यदि अब हम माउस के भविष्य के बारे मे बात करे की माउस का आने वाले समय मे क्या मांग होगी? पहले तो लोग Ball mouse का उपयोग करते थे पर जैसे-जैसे टेक्नॉलजी का विकास हुआ वैसे ही mouse का भी विकास हुआ और तरह तरह के माउस आए।

आने वाले समय मे लोग अपना समय बचने के लिए और जादा टेक्नॉलजी का उपयोग करेंगे और इसी समय बचाने के वजह से टेक्नॉलजी भी बहूत ही जादा विकास करेगी। पहले तोलोग माउस को कंप्युटर से कनेक्ट करने के लिए datacable का उपयोग करते थे पर अब तो wireless माउस भी आगी है । इससे तो यही लगता है की आने वाले समय मे टेक्नॉलजी का बहूत बाद योगदान होगा।

आने वाले समय मे यह भी हो सकता है की ओमपुटेर के लिए माउस का उपयोग ही न करना पड़े । यह मै इसलिए कह रहा हूँ क्यों की artificial intelligence भी बहूत तेजी से बाद रहा है। पर ये कुछ भी नहीं कहा जा सकता है की माउस रहेगा या नहीं कोई नहीं जनता भविष्य मे क्या होगा। हा पर अनुमान लगाया जा सकता है।

तो ऐसे मे तो माउस का भविष्य क्या होगा यह तो टेक्नॉलजी के ऊपर निर्भर करती है क्यों की यदि टेक्नॉलजी है तो कुछ भी संभव है। यह मै इसलिए कह रहा हूँ क्यों की टेक्नॉलजी के कारण impossible काम भी possible मे बदले जा चुके है। और भविष्य मे भी इसकी मदत से impossible को possible बनाया जा सकता है।

देखते है भविष्य मे क्या – क्या नए आते है और क्या- क्या सीखने का मौका मिलता है।

आपने क्या सीखा?

इस पोस्ट के माध्यम से अब आपको माउस क्या है इसके कितने प्रकार होते है? इसके बारे मे आपको पूरी जानकारी जरूर मिल गया होगी। मुझे पूर्ण आशा है की मैंने माउस क्या है के बारे मे पूरी जानकारी सही सही इस पोस्ट की माध्यम से दी है। एक बार मै फिर कहता हूँ की इसके बारे मे आप सबको अवश्य पूरी जानकारी मई गई होगी।

मेरा आपसे एक निवेदन है इस पोस्ट को अपने पड़ोस, रिश्तेदार, भाई-बहन, अपने relationship मे सभी तक इस पोस्ट को जरूर पहुचाए जिससे हमारे बीच जागरूकता होगी और इससे सभी को टेक्नॉलजी के बारे मे सम्पूर्ण जानकारी हिन्दी मे सरलता और आसानी से मिलेगी जिससे हमारे देश मे कोई भी ऐसा नहीं रहे जिसे टेक्नॉलजी के बारे मे जानकारी न हो।

वो कहते है ना “यदि कुछ अपने भाषा मे सीखने को मिले तो वह सीखने मे भी आनंद आता है” तो बस वही हम भी कहते हैकी आप सबको technology और अन्य चीजों के बारे मे आपको जानकारी केवल और केवल आपके अपने भाषा हिन्दी मे मिले।

आपसे मेरा गुंजारिस है की आपको यह information कैसा लगा, आपके लिए यह कितना लाभदायक है और इसमे क्या त्रुटि है उसे आप हमे comment करके जरूर बताए ताकि मै अगले पोस्ट मे उसे सुधार कर के आपके सामने अच्छे से प्रस्तुत करू जिससे आपको समझने मे और भी आसनी होगी।

धन्यवाद !

6d69b4b1b6e2465e1df49c5b7c7c8b58?s=96&d=mm&r=g
Ananthttps://techsnm.com
नमस्कार दोस्तों , मै Anant , TechSNM का founder हूँ। मैंने इस ब्लॉग को इसी उदेश्य से बनाया है की आप सबको Technology आदि के बारे मे इस ब्लॉग की मदत से हिन्दी मे जानकारी दु। मुझे टेक्नॉलजी के नई नई चीजों के बारे मे जानकारी लेना और दूसरों के साथ उस जानकारी को साझा करने मे बहूत ही interest है।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

fifteen − ten =

Stay Connected

0FansLike
0FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

नवीनतम